Home / antarvasana / बहन को लड़की से औरत बनाया

बहन को लड़की से औरत बनाया

… : राहुल … , यह बात तब की है, जब में अपनी पढ़ाई के लिए मुंबई में रह रहा था। मेरा फ्लेट बिल्डिंग के सबसे ऊपर था। में जब घर में रहता था तो तब पूरी तरह से अपने कपड़े निकालकर रहता था,  क्योंकि मुझे वहाँ से कोई भी देख नहीं सकता था। मेरे फ्रेंड्स भी काफ़ी कम थे और मेरे घर से भी कोई आता नहीं था, कभी-कभी में घर पर चला जाता था। फिर एक बार में घर गया था तो तब मेरी मुलाक़ात मेरी चचेरी बहन श्रदा से हुई। फिर उसने मुझे बताया कि वो इस बार मेरे साथ मुंबई पढ़ाई के लिए आ रही है। उसे 6 महीने का कोई कोर्स करना था। श्रदा मुझसे 5-6 साल छोटी थी, लेकिन प्लेयर होने के कारण उसका फिगर काफ़ी सेक्सी था। उसके बूब्स, उसकी आँखें, उसकी कमर मुझे हमेशा परेशान करती थी।  मैंने बहुत चान्स ढूंढे थे, लेकिन वो हाथ में नहीं आती थी, लेकिन इस बार वो खुद ही आ गई थी। अब में बहुत खुश था। अब मैंने अपने कंप्यूटर पर कैम भी लगा लिया था और खुद को हमेशा हस्तमैथुन के वक़्त कैद किया करता था।अब में मुंबई जाकर क्या करना है? उसके बारे में सोचता रहता था। फिर आख़िरकार हम दोनों मुंबई पहुँच गये। मेरा फ्लेट काफ़ी दूर था इसलिए जाते वक़्त हमें काफ़ी तकलीफ हुई, मैंने पूरे सफर में   उसकी पूरी बॉडी को छू लिया था और में यह भी जान गया था कि वो वर्जिन है। मैंने जाते वक़्त ही उसे समझा दिया था कि 6 महीनों के लिए सिर्फ़ हम दोनों ही साथ में है इसलिए कोई भी परेशानी हो मुझे बताना। अब मैंने उसे पूरी तरह से समझा दिया था। अब वो मुझसे और भी खुलकर बातें करने लगी थी।  फिर उसने मुझे बताया कि उसे सेक्सी पेंटी पहननी है, लेकिन उसकी माँ उसे मना करती है। फिर मैंने उससे वादा किया की दूसरे ही दिन हम उसके लिए सेक्सी पेंटी लेने जाएँगे।फिर उस रात मैंने उससे और भी बहुत कुछ पूछा और पूरे दिन मैंने उससे बातें की। अब वो शर्मा नहीं रही थी, लेकिन फिर रात को जब हम दोनों सोने लगे, तो तब वो पुराने कपड़ो में ही सोने लगी। तो फिर मैंने उससे पूछा, तो उसने बताया कि उसके पास यहीं ड्रेस है। फिर मैंने उठकर उसे अपना एक ज़िप वाला शर्ट और एक शॉर्ट दी, उन कपड़ो में वो बहुत ही सेक्सी दिख रहीं थी। उसके पैर किसी मॉडल की तरह सेक्सी दिख रहे थे। फिर रातभर में कल के बारे में सोचता रहा, क्योंकि मैंने अपने कंप्यूटर में कैम लगाया था तो मैंने उसे नहाते हुए रिकोर्ड करना चाहा, लेकिन फिर याद आया की जाते वक़्त मैंने वो निकालकर रखा था। फिर दूसरे दिन नहाने के बाद हम दोनों घूमने चले गये, मैंने उसे मुंबई की ट्रेन में घुमाया। अब काफ़ी भीड़ में मैंने उसकी पूरी बॉडी को टच कर लिया था और वो भी मज़े लेकर मुझसे चिपकती रही।फिर बाद में मैंने उसे सेक्सी पेंटी लाकर दी तो वो इतनी खुश हो गई कि पूरी दुकान में मेरे गले लग गई। तो मैंने हल्के से उसकी गांड को छू लिया और दबाया, तो वो हंसी और थैंक्स बोली। फिर रास्ते में हमने खाना खा लिया। अब होटल के वाशबेसिन के पास काफ़ी पानी जमा था, तो श्रदा वहीं पर गिर गई।  तो मैंने उसे उठा तो लिया, लेकिन उसकी कमर में दर्द हो रहा था। फिर वो और में घर चले गये। फिर घर जाते ही मैंने उसे सेक्सी पेंटी पहनने को कहा, तो वो राज़ी हो गई। फिर उसने रात वाली ड्रेस और सेक्सी पेंटी पहन ली। अब उसकी कमर दर्द करने लगी थी। फिर उसने मुझे कमर को दबाने को कहा।  तो तब में समझ गया और फिर मैंने उसकी कमर थोड़ी सी दबाई। फिर थोड़ी देर के बार मैंने उससे कहा कि अगर मालिश कर दें तो रात को कमर नहीं दुखेगी, तो वो झट से मान गई। मेरे पास जिम की टेबल थी तो मैंने उसे उस पर लेटा दिया और तेल लेने के लिए अंदर गया और फिर मैंने अंदर जाकर कंडोम और तेल की बोतल निकाली और अपने कपड़े बदलकर आ गया। अब वो वैसे ही लेटी थी। ये कहानी आप डॉट कॉम पर पड़ रहे है।…फिर मैंने उसे शर्ट थोड़ी ऊपर करने के लिए कहा। तो उसके शर्ट ऊपर करते ही मैंने थोड़ा तेल उसकी कमर पर डाल दिया। फिर मैंने उसकी कमर को पूरी तरह से दबाया तो तब में समझ गया कि अब वो भी काफ़ी गर्म हो गई थी। अब मेरा लंड भी गर्म हो गया था। फिर उसने चुपके से अपनी पूरी शर्ट ऊपर की, क्योंकि वो पेट के बल सो रही थी। तो मुझे उसकी ब्रा का सिर्फ़ हुक ही दिखा। फिर मैंने उससे कहा कि अगर पूरी बॉडी की मालिश हो जाए तो मज़ा आएगा। तो वो मान गई और उसने लेटे-लेटे ही अपनी शर्ट की चैन खोल दी और कहा कि अब आगे का तुम निकाल देना। फिर मैंने उसकी शर्ट निकाली, उसकी पीठ काफी गोरी थी। फिर मैंने आहिस्ता-आहिस्ता उसकी ब्रा खोल डाली और फिर आहिस्ता से उसकी कमर के नीचे और ब्रा के नीचे अपना हाथ डालता गया। अब वो मेरे हाथों को जगह दे रही थी।फिर थोड़ी देर के बाद उसने अपनी पूरी बॉडी के बारे में बताया। फिर मैंने झट से उसकी पेंट निकाली।  अब अंदर सिर्फ़ सेक्सी पेंटी होने की वजह से उसकी गांड काफ़ी क्यूट लग रहीं थी। अब में काफ़ी गर्म हो गया था। फिर उसने बिना झिझक के अपनी पेंट निकाली। फिर मैंने थोड़ा तेल उसकी गांड पर डाला और अपनी पूरी ताकत से उसे दबाया और फिर थोड़ी पेंटी निकालकर उसके छेद में तेल डाला। तो तब वो बोली कि वहाँ पर तेल क्यों डाला? तो तब मैंने कहा कि थोड़ी देर के बाद मुझे वहाँ पर जाना है। तो वो हँसने लगी और चुप हो गई। अब उसके पीछे की सारी मालिश हो चुकी थी। फिर मैंने उसकी ब्रा फिर से लॉक करके उसे पीठ पर सोने के लिए कहा और थोड़ा तेल उसके पेट पर डाल दिया। अब वो अपनी आँखें बंद करके लेटी थी। फिर मैंने उसके पेट पर तेल लगाते-लगाते उसके लिप्स पर खूब किस किए और अब वो भी मेरा साथ देने लगी थी। फिर मैंने उसके ज़ोरदार किस लिए। अब उसने अपनी पूरी जीभ मेरे मुँह में डाल दी थी। फिर मैंने आहिस्ता-आहिस्ता से उसके बूब्स को दबाया तो वो करहाने लगी।फिर मैंने उसकी ब्रा निकालकर उसके बूब्स को ज़ोर-जोर से दबाया, तो वो चिल्लाने लगी,  तो फिर मैंने उन्हें आहिस्ता-आहिस्ता दबाया। तो तब उसने कहा कि हमारी खिड़की खुली है। तो तब मैंने उसे बता दिया कि हमारे फ्लेट में से कुछ भी दिख नहीं सकता है। फिर मैंने उसके बूब्स अपने मुँह में लिए और बाद में अपना एक हाथ उसकी सेक्सी पेंटी में डालकर उसकी चूत के बालों को पकड़ा और फिर अपनी एक उंगली उसकी चूत में अंदर डाल दी। अब वो काफ़ी गर्म हो गई थी। फिर उसने मुझे बताया कि वो वर्जिन है, लेकिन अब नहीं रहना चाहती, लेकिन इस वक़्त वो कंडोम के साथ ही सेक्स करेगी। तो तब मैंने उसे मेरा कंडोम का पैक दिखाया तो वो समझ गई। फिर मैंने उसकी सेक्सी पेंटी पूरी निकाल दी। अब वो पूरी नंगी मेरे सामने खड़ी थी, उसके बाल काफ़ी मुलायम और बड़े-बड़े थे, उसकी चूत के ऊपर काले बाल भी बहुत सेक्सी थे।फिर मैंने उसकी चूत में अपनी एक उंगली डाल दी, तो वो करहाने लगी। फिर मैंने अपनी एक उंगली पूरी तरह से उसकी चूत में घुसेड़ दी। फिर मैंने उसकी चूत को चाटकर उसे पहला ऑर्गॅजम दिया। फिर उसने बताया कि वो उसकी जिंदगी का पहला ऑर्गॅज़म था, जो किसी आदमी ने दिया था। फिर मैंने काफ़ी देर तक उसकी बॉडी को रब किया, उसके चेहरे पर बहुत सारे किस लिए। फिर उसने फिर मेरा लंड अपने हाथ में लेकर उसे खूब चूमा। फिर मैंने उसे अपना लंड मुँह में लेने के लिए कहा तो उसने मुझे पूरी तरह से मज़ा दिया। अब वो काफ़ी ट्रेंड हो गई थी। फिर उसने अपनी चूत आगे करके उसे फुक करने के लिए कहा। तो तब मैंने एक तकिया लेकर उसकी गांड के नीचे रखा और फिर हल्के से उसकी चूत पर अपना लंड दबाया। तो वो खुश हो गई और अब उसने अपनी आँखें बंद कर ली थी।फिर मैंने पूरे ज़ोर अपने लंड को उसकी चूत में डाला, उसकी चूत काफ़ी टाईट होने की वजह से मुझे भी तकलीफ होने लगी थी। अब वो भी चिल्लाने लगी थी, लेकिन मैंने उसका क़िस लेकर उसकी आवाज को दबा दिया था और उसके कान में कहा कि शुरुवात में थोड़ा दर्द होगा, लेकिन बाद में नहीं होगा। फिर वो चुप हो गई। फिर मैंने फिर से अपनी स्पीड बढाई तो थोड़ी ही देर में मेरा लंड उसकी चूत में अंदर बाहर होने लगा। अब वो काफ़ी खुश थी और अब वो भी अपनी कमर उठा-उठाकर मेरा पूरा लंड अंदर लेने की कोशिश कर रही थी। फिर थोड़ी देर के बाद उसकी चूत में से पानी आने लगा। फिर मैंने उसकी कमर पकड़कर अपनी स्पीड और बढाई और करीब 10 मिनट तक उसको चोदता रहा। अब आख़िर में हम दोनों एक साथ हिल रहे थे और फिर कुछ ही देर में में और वो दोनों ढीले हो गये। फिर में काफ़ी देर तक उसकी बॉडी पर पड़ा रहा। अब वो बहुत खुश थी। फिर मैंने उसके लिप्स पर किस करके उसे बताया कि अब 6 महीनों तक यही मालिश करवाएँगे। फिर वो हंसकर बोली कि ठीक है, लेकिन अगली बार कंडोम नहीं होना चाहिए। फिर मैंने जैसे ही उसे चूमा, तो उसने मेरे कान में कहा कि सिर्फ़ 6 महीने नहीं पूरे 1 साल तक में यहाँ पर तुमसे सेक्स करवाऊँगी। फिर में हर दिन उसके साथ सेक्स करता रहा और फिर 1 साल के बाद उसकी बॉडी काफ़ी बदल गई। अब वो पूरी औरत बन चुकी थी और में पूरा आदमी बन गया था ।।धन्यवाद ……