Home / antarvasana .com / मम्मी पापा की चुदाई चाबी के छेद से Antarvasna | Hindi Sex Stories

मम्मी पापा की चुदाई चाबी के छेद से Antarvasna | Hindi Sex Stories

… : बबलू … , मैंने डॉट कॉम की लगभग सारी कहानियों को पढ़ा है और मुझे इस साईट की सारी कहानियां बेहद ही अच्छी लगी। उनको पढ़ने के बाद में आपके लिए एक ऐसी कहानी लेकर आया हूँ जिसे मैंने अपनी आंखों के सामने होते हुए देखा था। ये कहानी वैसे तो कुछ पुरानी है, लेकिन मेरे सामने जब भी वो दिन याद आता है तो मुझे ऐसा लगता है कि ये कल की ही बात है। मेरा नाम बबलू है, हमारे परिवार में मेरी मम्मी और मेरे पापा रहते है। मेरी मम्मी जिनकी उम्र अब 40 साल की है एक बेहद खूबसूरत और काफ़ी आकर्षक महिला है। उनका रंग गोरा और चेहरा इतना सुंदर है कि जो भी उनको देखता है बस देखता ही रह जाता है। यह बात उस समय की है, जब में 10 वीं क्लास में पढ़ता था। अब हर रात की तरह खाना खाने के बाद मम्मी घर का काम ख़त्म करने के बाद नहाने जाती है और में दूसरे कमरे मे सोने जाता हूँ।फिर उस रात जब में सो गया तो तब थोड़ी देर के बाद मेरी नींद खुल गई और में अपने रूम से बाहर आया और बाथरूम चला गया। फिर बाथरूम से आने के बाद जैसे ही में मम्मी के कमरे के पास आया तो मैंने देखा कि मम्मी नहाने के बाद सिर्फ़ पेटीकोट और ब्रा पहनकर बाथरूम से बाहर निकली। फिर इसके बाद मम्मी एक छोटे से डिब्बे में सरसों का तेल लेकर बरामदे में लगे हुए बेड पेर लेट गई और अपने ऊपर एक चादर डाल लिया। फिर मैंने देखा कि मम्मी डिब्बे से तेल लगा रही थी। फिर थोड़ी देर के बाद जब मैंने दरवाजे के बंद होने की आवाज़ सुनी तो में जाकर उनके रूम के चाबी के छेद में से देखने लगा। तो मैंने पाया कि पापा वहीं थे और सिर्फ़ टावल में थे और फिर उन्होंने अपना टावल खोल दिया तो तभी मम्मी ने कहा कि लगता है आपका बहुत बड़ा हो गया है, में इसे नहीं ले सकती। तो पापा ने कहा कि कुछ नहीं होगा। फिर मैंने देखा तो वो काफ़ी बड़ा था, लगभग 9 इंच का लंड था, जो गधे के लंड जैसा लग रहा था।फिर पाप ने मम्मी को उल्टा किया। अब मम्मी नहीं नहीं कर रही थी, लेकिन पापा सुनने वाले नहीं थे। अब मुझे मम्मी की गांड साफ दिख रही थी। फिर पापा मम्मी की जाँघ पर बैठ गये और मम्मी की गांड को फैलाते हुए पास में पड़े डिब्बे से तेल निकाला और मम्मी की गांड में मल दिया। फिर उन्होंने अपने लंड को बाहर निकाला तो जैसे ही मैंने उनके लंड को देखा तो मुझे ऐसा लगा कि आज मज़ा आने वाला है। फिर मम्मी की गांड में तेल लगाने के बाद पापा ने अपने लंड को मम्मी की गांड में जैसे ही सटाया तो मम्मी ने अपने दोनों हाथों से अपनी गांड को फैला दिया। तभी पापा ने मम्मी की गांड में अपना लंड सटाकर एक ज़ोर झटका मारा।फिर मम्मी ने ज़ोर से सिसकी लेते हुए अपनी गर्दन को ऊपर किया और मैंने देखा कि मम्मी की गांड में पापा का लंड आधा चला गया था। अब मम्मी काँप उठी थी और उनके मुँह से आवाज निकल पड़ी आहह धीरे-धीरे। फिर पापा मम्मी के ऊपर लेट गये और मम्मी की गांड में अपने लंड को अंदर और अंदर ले जाने के लिए हर 5-6 छोटे-छोटे झटको के बाद एक ज़ोर का झटका मार रहे थे। अब मम्मी के मुँह से आआहह, आआ, उउउहहह, आआअहह की आवाज निकल रही थी। फिर लगभग 5 मिनट के बाद जब मैंने ध्यान से देखा तो पाया कि मम्मी की गांड में उनका पूरा लंड चला गया था। अब मम्मी धीरे- धीरे मौन कर रही थी। फिर यह सिलसिला कुछ देर तक चलता रहा और फिर वो दोनों शांत हो गये। तो में समझ गया कि मम्मी की गांड में पापा का वीर्य भर गया है। ये कहानी आप डॉट कॉम पर पड़ रहे है।फिर पापा 2-3 मिनट तक मम्मी के ऊपर पड़े रहे। फिर थोड़ी देर के बाद पापा ने अपने लंड को मम्मी की गांड से बाहर निकाला और उठकर पेशाब करने के लिए चले गये और मम्मी उसी तरह लेटी रही। फिर कुछ देर के बाद पापा वापस आए, तो मम्मी उठकर बैठ गई थी। फिर पापा ने अपने लंड को निकालकर मम्मी के हाथ में पकड़ा दिया। फिर मम्मी कुछ देर तक उसे अपने हाथ से हिलाती रही। फिर कुछ देर के बाद मम्मी ने पापा से बोला कि में पेशाब करके आती हूँ और फिर मम्मी उठकर पेशाब करने चली गई। अब इधर पापा ने डिब्बे से तेल निकालकर अपने लंड पर लगाया और अब उनका लंड बिल्कुल ही भयानक लग रहा था, क्योंकि उसकी लंबाई पहले से बढ़ गई थी। फिर जब मम्मी पेशाब करके वापस आई, तो वो पापा के लंड को देखकर मुस्कुराने लगी। फिर मम्मी चटाई पर लेट गई।फिर पापा मम्मी के पैरो के पास गये और अपने टावल को खोलकर अपने लंड को मम्मी की नाइटी के अंदर डाल दिया और धीरे-धीरे मम्मी के ऊपर चढ़ने लगे थे। तो तभी मैंने देखा कि मम्मी की नाइटी ऊपर उठती जा रही थी। फिर जैसे ही उनका लंड मम्मी की चूत से सटा तो मम्मी ने अपनी आँखें बंद कर ली। फिर पापा ने मम्मी की नाइटी को ऊपर उठाकर पूरा खोल दिया। अब मम्मी और पापा दोनों एक दूसरे के सामने बिल्कुल ही नंगे पड़े हुए थे। फिर पापा मम्मी की चूत को फैलाकर कुछ देर तक देखते रहे और इसके बाद डिब्बे से तेल निकालकर मम्मी की चूत में डाल दिया। फिर इसके बाद पापा ने अपने लंड को मम्मी की चूत पर सटाने के बाद जैसे ही हल्का सा पुश किया। तो मम्मी ने अपने दोनों हाथों से अपनी चूत को फैला दिया। फिर पापा ने एक ज़ोर का झटका मारा तो पापा का लंड मेरी मम्मी की चूत में पूरा चला गया। अब मम्मी की ज़ोर से आहह, नहीं, आह, आआहह की आवाज निकल पड़ी थी। फिर पापा ने अपनी कमर को हिला-हिलाकर ज़ोर-ज़ोर से झटका मारना शुरु किया। फिर लगभग 1 मिनट तक झटके मारने के बाद पापा ने मम्मी की दोनों चूचीयों के ऊपर 5-5 बूँद तेल डाला और अपनी दोनों हथेलियों में लेकर मसलना शुरू कर दिया।अब पापा एक तरफ मम्मी की चूत में अपने लंड को अंदर ले जाने के लिए ज़ोर-ज़ोर से झटके मार रहे थे तो दूसरी तरफ मम्मी की चूचीयों को बुरी तरह से मसल रहे थे। फिर कुछ देर के बाद मम्मी ने मौन करते हुए पूछा कि और कितना बाहर है? तो पापा ने बताया कि अभी 4 इंच बाहर है। फिर तभी मम्मी ने बोला कि डाल दीजिए, फाड़ दीजिए मेरी चूत को। फिर इतना सुनते ही पापा ने अपने लंड को थोड़ा सा बाहर निकाला और ज़ोर से एक झटका मारा तो मम्मी पूरी तरह से काँप उठी। अब मम्मी की चूत में पापा का पूरा 9 इंच का लंड चला गया था। अब मम्मी आहह, नहीं, इसस्सस्स, सस्स, आअ, आआअहह की आवाज निकाल रही थी। अब मम्मी ने अपनी दोनों जाँघो को पूरी तरह से फैला रखा था। अब मुझे उनकी चूत में लंड का आना जाना साफ दिख रहा था। अब मम्मी भी पापा का पूरा साथ दे रही थी।फिर मम्मी मुस्कुराते हुए बोली कि फाड़ दीजिए मेरी चूत को। फिर मैंने देखा कि पापा अपनी कमर को पूरी फिल्मी स्टाइल में हिला रहे थे और मम्मी भी उनके साथ अपनी कमर को ज़ोर-ज़ोर से हिलाकर उनका साथ दे रही थी। फिर पापा मम्मी के होंठो को चूसने लगे। अब मम्मी भी अपने होंठो को चुसवा रही थी। फिर ये सिलसिला आधे घंटे तक चलता रहा और फिर थोड़ी देर के बाद वो दोनों धीरे-धीरे शांत पड़ गये। फिर पापा मम्मी के ऊपर 10 मिनट तक लेटे रहे और मम्मी की दोनों चूचीयों को मसलते रहे। फिर पापा ने उठकर अपने लंड को बाहर निकाला तो मैंने मम्मी की चूत के ऊपर देखा तो मम्मी की चूत पूरी तरह से फूल गई थी। फिर पापा ने पूछा कि कैसी लगी चुदाई? तो मम्मी पापा को देखकर मुस्कुराते हुए बोली कि मज़ा आ गया। फिर मम्मी कुछ देर तक वैसे ही चटाई पर लेटी रही और फिर वो दोनों ऐसे ही सो गये। फिर में वहाँ से अपने रूम में चला आया ।।धन्यवाद …