Home / antarvasana / मोना भाभी को देवर ने चोदा

मोना भाभी को देवर ने चोदा

… : राहुल … , यह एक बहुत गर्म औरत को े की कहानी है। वो मेरे फ्रेंड की भाभी है, उनका नाम मोना है और वो कुछ दिनों के लिए मेरे फ्रेंड के घर अकेली ही आई थी, क्योंकि मेरे फ्रेंड की वाईफ की डिलेवरी होने वाली थी। उन दिनों हम लोग पास में ही रहते थे। मेरा फ्रेंड और उसकी वाईफ दोनों सर्विस करते थे। में और मेरी वाईफ मोना से जल्द ही पास हो गये थे। हम लोग उन्हें मोना भाभी कहते थे। मोना भाभी का नाम जितना सेक्सी है, वो उतनी ही सेक्सी दिखने में है। में उनकी चुदाई के बारे में सोचा करता था। मोना भाभी के 2 बच्चे थे, लेकिन उनका फिगर बहुत ही सेक्सी था, वो अपने फिगर को काफ़ी मैनटेन किए हुए थी। मोना भाभी का बूब्स तो बस देखने लायक था, उनका फिगर साईज काफ़ी मस्त और राउंड शेप में था। मैंने एक दो बार उनके ब्लाउज के ऊपर से उनके बूब्स की गोलाईयों को देखा था तो में बहुत मस्त हो गया था। उनकी आँखें और लिप्स और गाल भी बहुत सेक्सी थे, उनके लिप्स बहुत मुलायम थे, उनके कूल्हें भी जानलेवा थे, उनका वेस्ट बिल्कुल कुंवारी लड़कियों जैसा था और जब मोना भाभी चलती थी तो तब उनके बूब्स उछलते थे और हिप्स इधर उधर हिलते थे। अब में तो बस देखा ही रहता था।फिर ऐसा हुआ कि मेरी वाईफ बच्चो के साथ अपने पेरेंट्स के घर 2-3 दिन के लिए चली गयी और उसी समय मेरे फ्रेंड की वाईफ नर्सिंग होम में एड्मिट हो गयी थी। डॉक्टर ने कहा था कि 1 हफ्ते पहले से ही एड्मिट करना होगा, इसलिए मोना भाभी शाम को नर्सिंग होम जाती थी, में भी कभी-कभी जाता था। फिर एक दिन मोना भाभी खाना बनाकर मेरे फ्रेंड को ऑफिस भेजकर बाथ लेकर तैयार हो रही थी। उस दिन में ऑफिस नहीं गया था। मैंने छुट्टी ली हुई थी और मोना भाभी को यह बात मालूम थी। फिर जब मेरा फ्रेंड ऑफिस चला गया तो तब मोना भाभी ने करीब 10 बजे मेरे दरवाजे को लॉक किया। फिर मैंने दरवाजा खोला। तब वो बोली कि उनके बाथरूम में पानी नहीं आ रहा है इसलिए वो मेरे बाथरूम में बाथ लेंगी। फिर मैंने उनको अंदर बुला लिया। अब वो अपने कपड़े मेरे बेड पर ही छोड़कर बाथरूम में चली गयी थी। फिर मैंने देखा कि उनके कपड़े मेरे बेड पर ही है और वो बाथरूम में है, लेकिन मैंने कुछ नहीं कहा। अब मेरे मन में तरह-तरह की बातें आने लगी थी। अब में उत्तेजित भी हो गया था, एक तो वो मेरे बाथरूम में नहा रही थी और दूसरी की उनके सारे कपड़े मेरे बेड पर ही थे। फिर करीब 15 मिनट के बाद वो बाथरूम के अंदर से ही बोली कि सुनिए ना मेरे कपड़े आपके रूम में ही बेड पर छूट गये है, प्लीज दे दीजिए ना, पहले मेरा टावल दे दीजिए ना।फिर में उसके टावल को लेकर बाथरूम के दरवाजे पर आ गया तो उसने बाथरूम का दरवाजा खोलकर टावल ले लिया और दरवाजा बिना बंद किए ही अपना बदन साफ़ करने लगी थी। फिर थोड़ी देर के बाद वो बाथरूम के बाहर आ गयी। अब में उनको देखकर बहुत उत्तेजित हो गया था। तब वो बोली कि ऐसे क्यों देख रहे हो मेरे देवर जी? वो बहुत नॉटी लग रही थी। अब वो टावल को अपने बदन के ऊपर के पार्ट को कवर किए थी, उनका बूब्स टावल से झाँक रहा था, उनका बूब्स आधा ही कवर था और उनकी सेक्सी जांघे तो पूरी दिख रही थी, वो उस समय बहुत सेक्सी लग रही थी। अब वो अपने बालों को अपने एक हाथ से ठीक करने में लगी थी। फिर वो बोली कि मेरे देवर जी इधर आइए ना। अब में तो बस यही चाह रहा था। फिर में उनके पास आ गया, उनकी आँखें और लिप्स काफ़ी नॉटी दिख रहे थे। फिर वो बोली कि अपनी भाभी को सिर्फ़ यूँ ही देखते रहोंगे क्या? थोड़ी मेरी पीठ सहला दो ना।अब में पीछे से उनकी पीठ को सहलाने लगा था। अब मोना भाभी हलके से मौन करने लगी थी। तब मैंने पूछा कि क्या हुआ मोना भाभी? तो तब वो बोली कि तुम्हारे हाथ लगाने से बहुत उत्तेजना हो रही है और करो ना, यूँ ही करते रहो, ठीक से करो। अब में उनकी पीठ पर चारों तरफ अपना हाथ फैरने लगा था और अब में टावल को उनकी पीठ पर नीचे खिसकाकर अपना हाथ फैरने लगा था और वो मुझे वैसे ही करने को कह रही थी। अब में टावल में अपना एक हाथ घुसाने लगा था और अपने मनमाने ढंग से अपना हाथ उनकी पीठ पर फैरने लगा था। अब में समझ गया था कि वो जानबूझकर अपने कपड़े बाथरूम के बाहर छोड़ गयी थी। अब में समझ गया था कि वो जानबूझकर ऐसा कर रही है। अब में भी काफ़ी आगे बढ़ गया था और उनसे कहा कि मोना भाभी तुम बेड पर लेट जाओ, में तुम्हारे पूरे बदन पर मसाज कर देता हूँ।तब वो बोली कि सिर्फ़ मसाज या और कुछ, में जानती हूँ तुम क्या चाहते हो? और फिर मोना भाभी ने अपने टावल को अपने बदन से अलग कर दिया और मेरे सामने पूरी तरह से नंगी हो गयी थी। अब में तो बस उनको देखता ही रह गया था। तब वो बोली कि सिर्फ़ यूँ ही देखोगे या अपनी जवान भाभी को कुछ करोगे भी। अब वो बिल्कुल नंगी थी, उनका बूब्स बहुत मस्त था, राउंड शेप और टाईट। फिर वो मेरे करीब आ गयी और मेरी शर्ट को उतार दिया। अब मेरे बदन में तो आग सुलग रही थी। फिर उसके बाद उसने मेरी पेंट की चैन खोलकर मेरी पेंट खोल दी और मेरी अंडरवेयर को नीचे सरका दिया। अब मेरा लंड पूरा खड़ा हो गया था। अब वो मेरे लंड को देखकर मुस्कुरा रही थी। फिर मैंने मोना भाभी को अपनी बाँहों में ले लिया और उनके लिप्स पर किस करने लगा था और फिर चूसने लगा था। अब वो भी मुझसे लिपट गयी थी और मेरे किस का पूरा जवाब दे रही थी।…फिर वो बोली कि डियर देवर जी आज अपनी इस भाभी के बदन की गर्मी को शांत कर दो प्लीज, में किसी से नहीं कहूँगी और ना ही तुम किसी से कहोगे, में प्लान बनाकर ही यहाँ तुम्हारे पास आई हूँ मेरे देवर जी, तुम जो चाहो करो, जैसे चाहो करो, प्लीज करो ना। अब में मोना भाभी के लिप्स, गाल और गर्दन पर किस करके उनके बूब्स को किस करने लगा था। अब वो बहुत सेक्सी आवाजे निकाल रही थी। अब में उनके निपल्स को अपने मुँह में लेकर चूसने लगा था। अब वो सेक्सी आवाजों में और और और चूसो और किस करो और चूसो मेरे डियर देवर जी और चूसो ऐसे ही चूसो, बहुत मज़ा आ रहा है मेरे देवर जी और चूसो बोले जा रही थी और अब में मोना भाभी के दोनों निपल्स को बारी-बारी से चूस रहा था और उनके सेक्सी हॉट बदन को सहला रहा था। अब वो भी मेरे बदन को सहला रही थी। फिर में उनके पीछे आ गया और उनके दोनों बूब्स को अपने दोनों हाथों में ले लिया। अब में मोना भाभी के बूब्स को दबाने लगा था। अब वो मदहोश हो रही थी। ये कहानी आप डॉट कॉम पर पड़ रहे है।फिर उन्होंने मेरे खड़े लंड को जोर से पकड़ लिया और उसको मरोड़, मसल रही थी। अब वो बोल रही थी दबाओ और ज़ोर-ज़ोर से दबाओ, प्लीज और ज़ोर से दबाओं मेरे देवर जी, हाँ ऐसे ही दबाओ और में मोना भाभी के दोनों बूब्स को खूब ज़ोरों से दबा और मसल रहा था। फिर मैंने कहा कि मोना भाभी तुम्हारे बूब्स बहुत मज़ेदार है मेरी भाभी, हाँ भाभी तुम्हारी चूचीयाँ बहुत मज़ेदार है, तुम्हारी चूचीयों को दबाने और मसलने में बहुत मज़ा आ रहा है। तब वो बोली कि ओह देवर जी तुम चूचीयाँ दबाने में बड़े एक्सपर्ट हो, आह मेरे देवर जी, हाँ ऐसे ही दबाओ, ऐसे ही मसलते रहो मेरी चूचीयों को, बहुत मज़ा आ रहा है। अब में मोना भाभी के बदन को ऊपर से नीचे तक चूमने लगा था। अब वो मस्ती में उउउफ्फ, आअहह करती जा रही थी।फिर मैंने उसकी नाभि, कूल्हों, पेट और जांघो को खूब चूमा। अब वो कहने लगी थी ऊऊफफफफ्फ़ मेरे देवर जी अब मेरी चुदाई करो ना, अब में पूरी गर्म हो चुकी हूँ, अब नहीं रहा जाता है, प्लीज जल्दी से करो ना, आज मुझे पूरी तरह ले लो, हाँ मेरे देवर जी, प्लीज। फिर मैंने मोना भाभी को अपने बेड पर लेटा दिया और उनके ऊपर आ गया। अब में उनके निप्पल को फिर से चूसने लगा था। अब वो उत्तेजना में अपनी जांघो और कूल्हों को इधर उधर फेंकने लगी थी। फिर में उठ गया और अपने घुटनों पर बैठ गया। फिर मैंने मोना भाभी की दोनों जांघो को अलग-अलग किया और उसके बीच में खुद पोज़िशन लेकर बैठ गया। अब में अपना खड़ा हार्ड लंड मोना भाभी की चूत में घुसाने लगा था। अब वो उउउफ़फ्फ, उफफ्फ करने लगी थी। फिर मैंने तीन धक्को में अपना पूरा लंड मोना भाभी की गर्म गीली चूत में घुसा दिया और अब में धीरे-धीरे मोना भाभी को े लगा था। अब वो फिर से मौन कर रही थी और में उनको चोद रहा था। अब मोना भाभी मस्ती में मुझसे चुदवाने लगी थी।फिर मैंने धीरे-धीरे अपनी स्पीड बढाई। तब वो बोली कि हाँ ऐसे ही, आह और चोदो, आह और चोदो मेरे देवर जी, हाँ ऐसे ही चोदो मुझे और फिर कुछ देर तक में ऐसे ही मोना भाभी की चुदाई करता रहा। फिर थोड़ी देर के बाद मोना भाभी बोली कि ऊऊफफफ्फ देवर जी प्लीज़ जल्दी चोदो ना, तेज चोदो और तेज चोदो मुझे। फिर मैंने अपनी स्पीड बढ़ा दी। अब में मोना भाभी को फुल स्पीड में चोद रहा था। अब वो खूब मस्ती में मुझसे चुदवा रही थी और मुझे जोश में लाती जा रही थी। मैंने उसके पहले कई जवान भाभीयों की चुदाई की थी, लेकिन मोना भाभी भी किसी से कम नहीं थी। अब वो मुझे चुदाई के लिए बार-बार बोल रही थी। अब मेरा लंड मोना भाभी की गर्म और गीली चूत में तेज-तेज अंदर बाहर हो रहा था। अब मोना भाभी भी अपने भारी सेक्सी कूल्हों को बार-बार उछाल-उछालकर चुदाई में मेरा पूरा साथ दे रही थी। फिर आखरी में हम दोनों अपने क्लाइमैक्स पर आ गये और मैंने अपना पूरा गर्म स्पर्म मोना भाभी की चूत में ही निकाल दिया। अब हम दोनों ही बुरी तरह हाँफ रहे थे।फिर कुछ देर तक आराम करने के बाद मैंने किचन से दूध लाकर उनको पिलाया और खुद ने भी पिया। अब वो अभी भी बेड पर नंगी थी। अब में फिर से मोना भाभी के बदन पर किस करने लगा था। फिर वो मेरे ऊपर आ गयी और खुद ने ही मेरे मुँह में अपनी चूचीयाँ बारी-बारी से दे दी और में लेटे-लेटे ही उनके निपल्स को चूसता रहा। फिर मैंने कहा कि मोना भाभी तुम बहुत बोल्ड हो, तुम बड़ी सेक्सी और हॉट हो, तुम चुदाई बहुत अच्छी करवाती हो मेरी भाभी। अब वो भी पीछे नहीं थी और बोली कि तुम भी तो बहुत सेक्सी हो, तुम बहुत मज़ेदार चुदाई करते हो, तुम बिल्कुल एक्सपर्ट हो मेरे देवर जी, आज तुमने अपनी इस भाभी की खूब चुदाई की है। तब मैंने कहा कि मोना भाभी अभी कहाँ? में अभी तुम्हारी और चुदाई करूँगा, आज में तुमको खूब चोदूंगा मोना भाभी। फिर तब वो बोली कि डियर देवर जी अगर ऐसी बात है तो में कहाँ पीछे हट रही हूँ? जितनी चाहे चुदाई कर लो आज मेरे देवर जी, खूब चोदो, में चुदाई में तुम्हारा पूरा साथ दूँगी। अब वो मेरे लंड को सहला रही थी। अब मेरा लंड पूरा खड़ा हो गया था।फिर मैंने मोना भाभी को बेड पर डॉगी पोज़िशन में कर दिया और पीछे से अपना खड़ा लंड फिर से मोना भाभी की चूत में घुसा दिया और अब में मोना भाभी की डॉगी स्टाइल में चुदाई करने लगा था। अब वो भी अपने सेक्सी भारी राउंड कूल्हों को आगे पीछे करके चुदवाने लगी थी। फिर मैंने मोना भाभी को खूब चोदा। अब वो बेड पर झुक गयी थी, लेकिन वो अपने कूल्हें ऊपर ही किए थी। अब में मोना भाभी की चुदाई कर रहा था और मोना भाभी फिर से अकड़ रही थी। अब में मोना भाभी को तेजी से े लगा था। अब वो पूरी मस्ती में चुदवा रही थी। अब हम दोनों पूरा इन्जॉय कर रहे थे और फिर इस बार मैंने और अधिक देर तक उनकी चुदाई की और फिर आखिर में हम दोनों फिर से झड़ गये। फिर हम लोग फिर से आराम करने लगे। फिर उस रोज मैंने मोना भाभी को 5 बार और चोदा और उसने हर बार पूरी मस्ती में अपनी चूत चुदवाई।फिर जब वो जाने लगी तो वो बोली कि मेरे देवर जी तुम बहुत अच्छे हो, तुम बहुत ही मज़ेदार हो, तुमने आज मेरी खूब चुदाई की है, में हमेशा याद रखूँगी मेरे डियर देवर जी। फिर तब मैंने भी कहा कि मेरी सेक्सी मोना भाभी तुम भी बहुत अच्छा चुदवाती हो, आज तुम्हारी चुदाई करके मज़ा आ गया, ी में भी याद रखूँगा। फिर मैंने मोना भाभी की चुदाई मौका देखकर तीन बार और की थी और खूब इन्जॉय किया था ।।धन्यवाद ……