Home / antarvasana / मोनिका को उसके क्लिनिक में चोदा

मोनिका को उसके क्लिनिक में चोदा

… : राहुल … , मेरा नाम राहुल है। में मोनिका को बहुत दिनों से ा चाहता हूँ और वो भी चुदने को बेताब थी। अब जब भी में उसके घर जाता तो वो अपने बड़े-बड़े बूब्स मुझे दिखाकर मेरे लंड को खड़ा कर देती थी। उसकी माँ भी बहुत ही सेक्सी थी और मेरा लंड लेने के लिए बेताब थी। अब में माँ और बेटी दोनों की जमकर चुदाई करना चाहता था। उसके एक मौसी भी थी, जिसके बूब्स करीब 8-10 इंच लंबे थे। फिर एक बार मैंने उनसे पूछा कि उनके बूब्स इतने लंबे कैसे है? तो तब उन्होंने बताया कि वो अपने बूब्स को कई मर्दों से चुसवा चुकी है और वो मेरे लंड से अपने बूब्स की चुदाई करवाना चाहती है, उनकी गांड भी बहुत ही सेक्सी है, गोरा रंग, पिंक निपल्स और सेक्सी नाभि। यह एक दिन की बात है में मोनिका के क्लिनिक पर गया, उस दिन रविवार था और मरीज कम थे।फिर में अचानक से मोनिका के चेंबर में दाखिल हो गया। उस वक़्त वो कोई मैग्जीन पढ़ रही थी और उसका एक हाथ उसकी जांघो के बीच में था, वो आह उह आ कर रही थी और उसकी आँखें मस्ती में बंद थी। फिर में उसको देखता रह गया और फिर मैंने भी अपने लंड को सहलाना स्टार्ट कर दिया, लेकिन वो थोड़ी देर में ही झड़ गयी थी और उसकी आँखें खुलने से पहले ही में उसके चेंबर से बाहर निकल गया था। फिर थोड़ी देर बाद में उसके कैबिन में उसकी परमिशन लेकर गया, उस वक़्त उसकी आँखें लाल थी और उसके बाल बिखरे हुए थे। फिर मैंने पूछा कि क्या बात है? तो उसने बहाना बनाया कि सिर में और गर्दन में बहुत दर्द हो रहा है, उसकी आँखों में चुदाई की चाहत साफ नजर आ रही थी।…फिर मैंने मौका पाकर उससे पूछा कि क्या में तुम्हारा सिर दबा दूँ? उसे पता था में बहुत अच्छी मसाज करता हूँ। फिर मेरे बहुत मनाने पर वो राज़ी हो गयी और फिर मैंने उसके माथे को मसाज करना शुरू कर दिया। फिर थोड़ी ही देर के बाद उसकी आँखें बंद होने लगी और अब वो अपनी ज्यादा आराम वाली कुर्सी पर अपनी आँखें बंद करके लेट सी गयी थी। अब उसके कुर्ते में से उसके 40 साईज के बूब्स बाहर निकलने को मचल रहे थे। फिर मैंने धीरे-धीरे उसकी गर्दन और कंधों पर मसाज करना शुरू कर दिया। तो तभी अचानक से वो अपनी सीट पर पूरी लेट गयी और सोने का नाटक करने लगी। फिर तब मैंने उसके होंठो पर किस किया तो यह करते ही वो गर्म हो गयी और मुझे अपने ऊपर गिरा लिया और मेरे होंठो को चूसने लगी थी। तो तब मैंने भी उसके बूब्स को मसलना शुरू कर दिया और अपने एक हाथ से उसकी चूत को सहलाने लगा था।जिससे वो ज़ोर-ज़ोर से आहें भरने लगी और कहने लगी कि इतने दिन से क्यों तड़पा रहे हो मुझे? मेरी चूत को तुम्हारा लंड चाहिए, रोज वाइब्रेटर लेकर बाथरूम में जाती हूँ और तुम्हारा नाम लेकर अपनी चूत में वाइब्रेटर डालती हूँ, मम्मी को भी मेरी चाहत के बारे में पता है और मौसी तो मम्मी के साथ तुमसे चुदने का प्लान बना चुकी है। अब इतना सुनते ही मेरे लंड में आग लग गयी थी और फिर मैंने मोनिका की कुर्ती ऊपर करके उसके बूब्स उसकी ब्रा खोले बिना ही बाहर निकाल लिए। यह मेरा औरत के बूब्स से खेलने का सेक्सी स्टाइल है। उसके बूब्स बहुत ही प्यारे लग रहे थे और गोरे-गोरे बूब्स हर मर्द की कमज़ोरी होते है। फिर उसने मेरा सिर पकड़कर अपने बूब्स पर रख दिया और अपने एक हाथ से मेरा लंड सहलाने लगी थी। अब हम दोनों पागल हो गये थे, तो तभी उसे याद आया कि दरवाजा तो खुला है। फिर तब उसने कहा कि बंद का बोर्ड लगाकर मैन दरवाजा बंद कर दो। फिर मैंने जल्दी से दरवाजा बंद कर दिया और वापस आते ही मोनिका को पूरा नंगा कर दिया। ये कहानी आप डॉट कॉम पर पड़ रहे है।अब वो सीट पर नंगी बहुत सेक्सी दिख रही थी। फिर मैंने उसकी हाई हील सैंडल के साथ ही उसके दोनों  पैरो पर किस करना स्टार्ट कर दिया और उसकी जांघो को चाटने लगा था। अब वो और भी सेक्सी हो गयी थी और मुझे मादरचोद, बहनचोद और गंदी गंदी बातें करने लगी थी और सिसकारियां भरने लगी थी। फिर तभी मैंने अपने होंठ उसकी चूत के होंठो पर रख दिए। तो वो पागलों की तरह अपने सिर को हिलाने लगी और ज़ोर-ज़ोर से कहने लगी कि तुम ही मेरे पति हो और आज अपनी सुहागरात है। फिर मैंने उसे उठाया और मरीज की टेबल पर लेटा दिया और फिर बेरहमी से उसकी चूत को चाटने, काटने लगा। अब वो ज़ोर-ज़ोर से कहने लगी थी। मेरे पिया मुझे आज सुहागन बना दो और मेरी चूत फाड़ डालो में बहुत प्यासी हूँ।फिर मैंने उसकी चूत पर बहुत सारा थूक लगाया और अपने लंड का टोपा उसकी चूत पर रखकर एक जोरदार धक्का दिया तो मेरा पूरा 9 इंच का लंड उसकी चूत को फड़ता हुआ पूरा अंदर घुस गया। अब मैंने अपनी स्पीड बढ़ा दी थी। फिर वो और जोर से चिल्लाने लगी कि मेरे राजा मुझे चोदो और मेरी प्यास बुझा दो। फिर उस दिन मैंने मोनिका को 3 बार चोदा और 1 बार उसकी गांड भी मारी ।।धन्यवाद ……Source