Home / desi sex stories / मैडम के साथ फ़ोन सेक्स-31

मैडम के साथ फ़ोन सेक्स-31

मैं : और तुमने पहनी हुई है क्या ब्रा…?

स्नेहा मेरी आँखों में देखते हुए : तुम ही बताओ…

मैंने उसकी छाती पर नजरें जमा दी…वो हलके से मुस्कुरा कर मेरी तरफ देखती रही…मुझे सच में पता नहीं चल पा रहा था की उसने अन्दर ब्रा पहनी है या नहीं…

मैं : मुझे इस तरह से पाता नहीं चल पायेगा…हाथ से चेक करना पड़ेगा…

स्नेहा उसी अंदाज में : तो कर लो…मैंने कहाँ मना किया है..

मैं : चेक कर लूँ….पर कैसे..

स्नेहा :वो तो तुम जानो…एक काम करो तुम जरा सोचो, तब तक मैं अपनी दूसरी फ्रेंड्स से मिलकर आती हूँ..

वो चली गयी और मैं सोचने लगा…

*******
अब आगे
*******

स्नेहा चलती जा रही थी और उसकी मटकती हुई गांड देखकर मेरा लंड तेजी से उछलने लगा था.. मैं मन ही मन सोच रहा था की एक तरफ ये मुझे देने को तैयार है और दूसरी तरफ मेरी किस्मत मेरा साथ नहीं दे रही है..पर अभी के लिए तो जितना मिले उसे समेट लो..

स्नेहा जाकर अपनी सहेलियों के बीच खड़ी हो गयी..उसकी क्लास की सारी लड़कियां बड़ी ही सेक्सी ड्रेस्सेस में वहां आई हुई थी, एक ने तो मिनी स्कर्ट और टॉप पहना हुआ था और उसके शरीर का हर कसाव उसमे से साफ़ दिखाई दे रहा था, नीचे मोटी-२ टाँगे और ऊपर लटकते हुए रसीले आम..

पर मुझे तो सबसे पहले स्नेहा के साथ मजे लेने के लिए कोई जगह देखनी थी..मैं उठकर फार्म हॉउस के पीछे की तरफ चल दिया, खाने की टेबल्स के पीछे वाली जगह पर अँधेरा था, और उसके पीछे काफी ऊँची दिवार थी, ये जगह सही है…मैं जल्दी से वापिस आया और स्नेहा को ढून्ढने लगा, वो बर्थडे गर्ल हिनल के साथ खड़ी थी…और उनके साथ स्नेहा का वो पुराने वाला बॉय फ्रेंड भी था…मैं उनके पास गया.

स्नेहा : कहाँ चले गए थे तुम…मैं कब से तुम्हे ढून्ढ रही थी..

मैं : वो मैं…जरा लू गया था..

अंकित ने मेरी तरफ हाथ बड़ा दिया…

अंकित : हाय…आई एम् अंकित…

मैं : हाय..आई एम् विशाल..हाउ आर यु..

स्नेहा : तुम अंकित से मिल ही चुके हो न, मेरे बर्थडे पर…

मैं : हाँ…तुम्हारे घर की छत्त पर..

अंकित सकपका गया…और उसका चेहरा देखकर हिनल और स्नेहा ने फिर से एक दुसरे के हाथ पर ताड़ी मारी और हंसने लगी..

स्नेहा : विशाल…मैंने तुमसे कुछ नहीं छुपाया…ये मेरा एक्स बॉय फ्रेंड है…और मालुम है इसको लेकर मुझमे और हिनल में कितनी लडाई होती थी…हिनल का ये पहला क्रुष था…पर इसे मैंने पहले हथिया लिया…पर अब जबसे तुम मेरी जिन्दगी में आये हो, सो..यु नो..मैंने इसे डंप कर दिया…और आज जब मैंने ये बात हिनल को बताई तो इसने मुझे अंकित के साथ……फ्रेंड शिप करने के लिए कहा, इसलिए मैंने अभी अंकित को बुलाया था और मैं इन्हें एक दुसरे से मिलवा रही थी…सो…हिनल, ये रहा मेरी तरफ से तुम्हारा बर्थडे गिफ्ट…एन्जॉय…

और ये कहते हुए स्नेहा ने अंकित का हाथ पकड़कर हिनल के हाथ में दे दिया…

अंकित तो बेचारा भोला सा चेहरा बना कर खड़ा हुआ था, मानो उसे बकरी की तरह बाजार में बेचा जा रहा हो…पर हिनल उसका हाथ पकड़कर फूली न समायी…और वो अंकित के साथ लगभग चिपक कर खड़ी हो गयी..इतना गर्म माल पाकर कोई पागल ही होगा जो खुश न हो…हिनल के शरीर की गर्मी मिलते ही अंकित का मूड भी चेंज होने लगा…और वो हिनल से हंस कर बाते करने लगा. पर मेरा ध्यान तो हिनल की ड्रेस में से उसके निप्पलस ढून्ढ रहा था..और आखिर मेरी तेज नजरों ने उन्हें पा ही लिया, सफ़ेद ड्रेस जो उसकी ब्रेस्ट से चिपक कर नीचे की और आ रही थी और जिसपर हलके फुल्के सितारे लगे हुए थे, उसके निप्पल वाली जगह पर आकर एक स्पीड ब्रेकर जैसी हालत में उसके निप्पल्स तन कर खड़े हुए थे, शायद अंकित को अपने इतने पास पाकर वो गरमा रही थी…

स्नेहा मुझे लेकर थोडा दूर चली गयी..

स्नेहा : तुम्हे बुरा तो नहीं लगा न…दरअसल, हमारे फ्रेंड सर्कल में ये सब चलता है, एक दुसरे के बॉय फ्रेंड को हम सभी आपस में युस कर लेते हैं…तभी तो मजा बना रहता है…ये अंकित काफी बड़े घर का लड़का है..इसे सबसे पहले मैंने अपना बॉय फ्रेंड बनाया..ये मुझे छोड़ना तो नहीं चाहता था, पर तुम्हारे आगे मुझे ये कुछ भी नहीं लगता…पर मैंने इसके साथ हद से ज्यादा कुछ नहीं किया..वैसे हमारे ग्रुप की कई लड़कियों ने तो सब तरह के मजे कर लिए है…पर अभी भी कई हैं जो वर्जिन है..जिनमे से मैं और हिनल भी हैं..पर हमने दुसरे मजे बहुत लिए हैं…

उसके खुले विचार सुनकर मुझे बड़ी ख़ुशी हो रही थी, एक वजह तो ये थी की अगर उसे मेरे दुसरे संबंधो के बारे में पता चला तो वो शायद उतना बुरा नहीं मानेगी और दूसरी वजह ये की शायद मुझे उसकी दूसरी सहेलियों के साथ कुछ मजे करने को मिल जाए…खासकर हिनल के साथ..

मैं : नहीं, मुझे कोई प्रॉब्लम नहीं है…वैसे मैंने एक जगह देखि है, जहाँ मैं ये चेक कर सकता हूँ की तुमने ब्रा पहनी हुई है या नहीं…

स्नेहा का चेहरा मेरी बात सुनकर मानो आग की तरह जलने लगा…

स्नेहा : क्या…सच…कहाँ है…चले क्या…?

मैंने उसका हाथ पकड़ा और उसे टेंट के पीछे की तरफ ले जाने लगा..

वो बार-२ मुड़कर पीछे देख रही थी, की कोई हमें देख तो नहीं रहा है न..

पीछे जाकर जब मैंने एक अँधेरे वाली जगह पर उसे खड़ा किया तो मुझे सिर्फ उसकी आँखें ही चमकती हुई दिखाई दे रही थी…

मैंने उसके दोनों हाथ पकड़ लिए, इतना करने की देर थी की उसने मुझे अपनी तरफ खींच लिया और मेरे सीने से लग गयी..

स्नेहा : ओह्ह्ह…विशाल…तुमने तो मुझे पागल कर दिया है….हर समय मैं तुम्हारे बारे में ही सोचती रहती हूँ…

उसने मुंह ऊपर किया और मेरे तपते हुए होंठो को अपने मुंह में लेकर उन्हें चूसने लगी…

उसके मुंह का गीलापन देखकर मुझे उसके अन्दर जल रही आग का अनुमान हो रहा था…

मैंने उसके दोनों मुम्मो पर हाथ रख दिए और उन्हें दबाने लगा…हाथ पीछे लेजाकर मैंने उसके सूट के पीछे लगी जिप खोल दी और उसके सूट को कंधे से खिसका कर नीचे कर दिया…मेरे सामने उसकी नंगी चूचियां थी…

मैं : तो तुमने भी ब्रा नहीं पहनी…हूँ..

स्नेहा : वो क्या है न, आज मैंने और हिनल ने दिसायिद किया था की हम दोनों ब्रा नहीं पहनेगी..उस पागल की वजह से मुझे भी अपनी ब्रा उतारनी पड़ी आज…

मैं : अच्छा है ना…हम दीवानों का काम आसान हो गया…

स्नेहा : मेरा बस चलता तो मैं तुम्हारे सामने कुछ भी न पहनू…

उसकी इतनी गर्म बात सुनकर मैंने उसे किसी जंगली की तरह से बालों से पकड़ा और अपने होंठो पर दे मारा…

स्नेहा : अह्ह्ह्ह…..जंगली….

उसकी इस बात ने आग में घी जैसा काम किया…फिर तो मैंने उसे जंगली की तरह से चूमना और चाटना शुरू कर दिया…

उसने मेरा चेहरा पकड़कर नीचे किया और अपनी एक ब्रेस्ट पकड़कर मेरे मुंह में ठूस दिया…और जब मैंने उसी जंगलीपन में उसके निप्पल पर दांत से काटा तो उसने अपना सर पीछे करके एक तेज आवाज निकाली…

अह्ह्हह्ह्ह्हह्ह……..उफफ्फ्फ्फ़……विशाल्लल्ल्ल……म्मम्मम्म…

मैंने एक एक करके उसके दोनों चुचे चूसने शुरू कर दिए…उसका सूट ऊपर से नीचे की और आकर कमर में अटका हुआ था…

मैंने हाथ नीचे लेजाकर उसकी चूत के ऊपर रखा, वहां तो मानो बाड़ सी आई हुई थी..पूरी तरह से गीली हो चुकी थी उसकी पेंटी और पय्जामी…मैंने हाथ वापिस ऊपर लाकर अपने मुंह में डाला और उसके रस का स्वाद लेने लगा…

उसने भी मेरे लंड के ऊपर हाथ मारने शुरू कर दिए थे…

वो अचानक मेरे सामने नीचे बैठ गयी और मेरी पेंट की जिप खोलने लगी…

अब अँधेरे में काफी देर तक रहने की वजह से मुझे वो साफ़ दिखाई दे रही थी…ऊपर से नंगी होकर वो मेरी आँखों में देखती हुई मेरी पेंट को नीचे कर रही थी..और फिर मेरे जोकी को भी नीचे करने के बाद उसने मेरे खड़े हुए लंड को जब चुसना शुरू किया तो मेरी टांगो में एक कंपकंपी सी छूट गयी…और मेरे मुंह से एक लम्बी सी हुंकार निकल गयी….

ऊऊऊऊऊऊऊऊह्ह्ह्ह ……..ओह्ह्ह्हह्ह्ह्ह…….स्नेहा…….म्मम्म….यस बेबी……सक मी…..सक मी हार्ड…..

वो तो मेरे लंड की पहले से ही दीवानी थी, उसने उसे अपने मुंह के अन्दर लेजाकर पूजना शुरू कर दिया…

तभी हमें अपनी तरफ कोई आता हुआ दिखाई दिया…

मैंने जल्दी से अपना लंड स्नेहा के मुंह से निकाला और एक झाडी की आड़ में हो गया…ताकि जो भी आ रहा है उसे हम दिखाई न दे..

थोडा पास आने पर पता चला की ये तो एक और जोड़ा है…और गोर से देखा तो पाया की ये तो हिनल और अंकित हैं…वो दोनों एक दुसरे को बुरी तरह से चूमने चाटने में लगे हुए थे…अंकित ने तो पीछे आते ही हिनल की ब्रालेस ड्रेस को साईड में खिसका कर उसे टोपलेस कर दिया था…और उसके दोनों रसीले आमो को हाथों से दबाकर उसके होंठ चूसने में लगा हुआ था..

उन्हें देखते ही स्नेहा उठ खड़ी हुई और उनकी तरफ जाने लगी…मैं उसे रोकने के लिए हाथ आगे किया पर तब तक वो उनके सामने आ चुकी थी…

उसने अपने सूट को ऊपर करके, बिना पहने, अपनी ब्रेस्ट को छुपा लिया था…

स्नेहा को देखते ही अंकित चोंक गया और उसने हिनल को छोड़ दिया…पर हिनल स्नेहा को देखकर हैरान नहीं हुई और वो अंकित से चिपक कर खड़ी हो गयी…

हिनल : ओहो…तो तुम यहाँ पर हो…तुम्हे भी यही जगह मिली थी…

उसने मुझे पीछे खड़े हुए देख लिया, अब मेरा भी छुपना बेकार था…मैंने अपने लंड अन्दर किया और उनकी तरफ आ गया…और स्नेहा की कमर में हाथ डालकर खड़ा हो गया..

स्नेहा : क्या यार…इतने बड़े फार्म हॉउस में तुझे भी यही जगह मिली थी क्या…और अंकित , तुम्हे तो मानना पड़ेगा,…मेरे बर्थडे पर मेरे साथ और अब हिनल के बर्थडे पर इसके साथ…मजे हैं तुम्हारे…

अंकित :तुम अगर मुझे न छोडती तो मैं अभी भी तुम्हारे पास होता…वहां…

उसका इशारा मेरी तरफ था…

पर मेरा सारा ध्यान तो हिनल की खुली हुई ब्रेस्ट के ऊपर था…क्या माल था यार…उसकी ब्रेस्ट तो अंशिका से भी बड़ी थी…और उसके निप्पल स्नेहा से काफी बड़े थे…

हिनल ने अपनी ब्रेस्ट पर मेरी नज़रों के तीर चलते पाकर मुझसे कहा : डू यु लाईक वाट यु सी…

मैं उसकी बात सुनकर सकपका गया…और वो दोनों सहेलियां फिर से एक दुसरे के हाथ पर ताली पारकर हंसने लगी…

स्नेहा : यार हिनल…ये गलत है…मैंने तुझे अपना एक्स दिया न…तू उसके साथ मजे ले, मेरे वाले को क्यों अपनी तरफ खींच रही है..

हिनल :मैंने क्या किया, वो ही मुझे घूर रहा है, तुने अपने तो छिपा रखे हैं, वो बेचारा तभी तो मेरे देख रहा है…

हिनल की बात सुनकर स्नेहा ने अपने सूट को वापिस नीचे कर दिया…मानो वो कम्पीटीशन में उतर आई हो..

स्नेहा : विशाल…लुक हियर…..एंड सक देम ….

मैं किस रोबोट की तरह उसकी बात को मानकर अपने मुंह को उसकी ब्रेस्ट तक ले गया ….और हिनल की आँखों में देखते हुए ही उसके निप्पल को चूसने लगा…

हिनल की नजरे भी मेरी आँखों से अलग नहीं हो रही थी…उसने भी अंकित को किसी बेजान चीज की तरह अपनी तरफ खींचा और अपनी ब्रेस्ट पर उसका मुंह लगाकर उसे अपने आम चुस्वाने लगी…और वो बेचारा भी स्नेहा के नंगे स्तनों को देखकर अपनी आँखे सकने में लगा हुआ था…शायद वो पहली बार ही देख रहा था उन्हें…

वो दोनों सहेलियां एक दुसरे के सामने मजे लेने में लगी हुई थी…

दोनों सहेलियों की सिस्कारियां गूँज रही थी मेरे कानो में…

फिर स्नेहा ने मेरे लंड पर हाथ रखकर उसे फिर से बाहर निकाल लिया…और नीचे बैठकर उसे फिर से चूसने लगी…

हिनल भी अंकित की पेंट से उसके लंड को बाहर निकाल कर उसके सामने बैठ गयी…वो अब अंकित के लंड को अपने हाथ में लेकर उसकी लम्बाई तय करने में लगी हुई थी..और फिर मेरे लंड की तरफ देखकर वो स्नेहा से बोली

हिनल : अब मालुम चला की तुने इस बेचारे को क्यों छोड़ दिया…

पर स्नेहा ने कोई जवाब नहीं दिया और मेरे लंड को चूसने में लगी रही…अंकित ने अपना चेहरा दूसरी तरफ घुमा लिया…मेरे लंड के सामने उसका लगभग 2 इंच छोटा था…

फिर भी हिनल अपने हाथ आई चीज को छोड़ना नहीं चाहती थी…उसने भी अपने जीभ निकाल कर उसके पांच इंच ले लंड को चुसना और चाटना शुरू कर दिया…

अंकित की नजर मेरे सामने बैठी हुई स्नेहा पर थी और मेरी नजरे हिनल के हिलते हुए मुम्मो पर…

जल्दी ही अंकित के चेहरे के भाव बदलने लगे और अगले ही पल उसके लंड ने हिनल के मुंह में पानी छोड़ दिया…

हिनल ने सारा रस पिया और अपने होंठ साफ़ करती हुई उठ खड़ी हुई…

मेरा लंड तो झड़ने के काफी दूर था अभी…

हिनल ने अंकित को घूर कर देखा मानो उसके जल्दी झड़ने पर गुस्सा दिखा रही हो …

फिर उसने अपनी ड्रेस को ऊपर की तरफ करना शुरू कर दिया…और उसकी नंगी टाँगे मेरे और अंकित के सामने आने लगी…उसने उस ड्रेस को पूरा ऊपर करने के बाद अपनी पेंटी से भी ऊपर उठा लिया और फिर उसने अपनी पेंटी को नीचे की और खिसका दिया…

मेरी तो हवा ही टाईट हो गयी उसकी सफाचट चूत को देखकर…और उसमे से निकलता पानी देखकर…

उसने मेरी तरफ ही देखते हुए अंकित को नीचे की और जाने का इशारा किया…और वो किसी पालतू कुत्ते की तरह नीचे घांस पर उसकी टांगो के बीच बैठ गया..

हिनल ने अपनी एक टांग उठा कर उसके कंधे पर रखी और उसकी रस टपकाती चूत अब सीधा अंकित के मुंह के ऊपर ही थी…और फिर हिनल अंकित के मुंह के ऊपर बैठ गयी…

अह्ह्ह्हह्ह्ह्हह्ह …….ऊऊऊ माय गोड…….सक मी……सक मी.अंकित………संक मीईईईई………..अह्ह्हह्ह …

अंकित ने उसकी चूत को चुसना शुरू कर दिया था….

स्नेहा भी बैठी हुई थक सी गयी थी….मेरे लंड से पानी निकलने का नाम ही नहीं ले रहा था….मुझे आज अपने लंड पर बड़ा नाज हो रहा था…

अंकित के मुंह के ऊपर एक पैर नीचे जमीन पर और दूसरा हवा में उठाकर बैठी हुई हिनल का बेलेंस अचानक बिगड़ा और उसने मेरी तरफ हाथ बढाकर मुझे पकड़ लिया….मेरे कंधे का सहारा पाकर वो गिरने से बची…

उसके दोनों चुचे मेरी बाजुओं से टक्कर खा रहे थे….और वो मेरी तरफ देखती हुई अपनी चूत को अंकित से चुसवा रही थी…

अह्ह्ह्ह…..ओह्ह्हह्ह……ओह्ह्हह्ह….येस्स…….म्मम्मम….

उसकी आँहो के साथ निकल रही तेज साँसे मेरे चेहरे पर पड़ रही थी…

स्नेहा ने जब ऊपर मुंह करके हिनल को मुझसे चिपक कर खड़े देखा तो उसने मेरा लंड अपने मुंह से बाहर निकाल दिया और उससे बोली

स्नेहा : ऐ हिनल…थोडा दूर तो हो जा….इतने पास आकर खड़ी होगी तो इसका ईमान तो डोल ही जाएगा न….

हिनल : मैं….अह्ह्ह…..मैं तो….तेरी हेल्प कर रही हूँ….अह्ह्ह….

स्नेहा : मेरी हेल्प….कैसे…

हिनल : अरे…तुने सुना नहीं….एक से भले दो…..तू इतनी देर से इसके पेनिस को चूस रही है….पर इसका निकल ही नहीं रहा…..क्या पता, मुझे इतने पास देखकर ये जल्दी डाउन हो जाए….है के नहीं….

बेचारी स्नेहा उसकी चालाक सी बातों में आ गयी…

स्नेहा :वाव….थेंक्स यार…जल्दी कर फिर तो….मैं भी थक गयी हूँ..इतनी देर से इसके पेनिस को सक करते हुए….मुझे भी यहाँ कुछ हो रहा है….

वो अपनी चूत को मसलती हुई बोली

हिनल : तू एक काम कर….जल्दी से अपने पय्जामी उतार दे…

उसकी बात सुनकर स्नेहा उठी और एक ही बार में अपनी पय्जामी उतार कर झाडी के ऊपर रख दी…और फिर से बैठ कर मेरे लंड को चूसने लगी…

हिनल : अंकित….तुम क्या अपनी पुरानी फ्रेंड की हेल्प नहीं करोगे….

अंकित उसकी बात सुनकर थोड़ी देर तक चूत चुसना भूल गया…उसे शायद अपने कानो पर विशवास नहीं हो रहा था की हिनल उसे क्या करने को कह रही है…फिर मुझे और स्नेहा को देखकर…धीरे से अपना हाथ आगे करके, स्नेहा की चूत के ऊपर लगा दिया….

स्नेहा की चूत तो पहले से ही टंकी की तरह से बह रही थी….उसे भी शायद झड़ने की जल्दी थी और मेरे लंड को झाड़ने की भी…और इसके लिए कोन क्या कर रहा है इसके बारे में सोचने का अब वक़्त नहीं था….उसने भी अपनी टाँगे चोडी करके अंकित के हाथो पर अपनी चूत को रगडा और जब अंकित ने उसकी रसीली चूत के अन्दर उँगलियाँ दाल कर हिलाना शुरू किया तो उसके मुंह से अजीब तरह की आवाजें निकलने लगी…

ओग्गग्ग्ग्ग …ओह्ह्ह्ह…..म्मम्मम….मूऊउ ……

उधर हिनल भी स्नेहा की हाँ पाकर और भी ज्यादा उत्तेजित हो गयी और अपनी चूत को अंकित के मुंह पर और तेजी से रगडती हुई वो मेरे से और जोर से चिपक कर खड़ी हो गयी ….और अगले ही पल मेरे हाथ अपने आप उसकी गोल गोल छातियों पर जाकर चिपक गए…और उसने भी बिना किसी बात की देरी किये बिना आने होंठ मेरे होंठों से चिपका दिए और मुझे बुरी तरह से चूसने लगी…

वहां खड़े-२ ही मुझे लगा की जैसे ग्रुप सेक्स हो रहा है…..

मेरी छाती से चिपकी हुई हिनल मुझे किसी कुल्फी की तरह से चूस रही थी और नीचे बैठी हुई स्नेहा मेरे लंड को लोलोपोप की तरह…

हिनल अपनी चूत को अंकित के मुंह पर रगड़ रही थी और अंकित अपनी उँगलियों का कमाल स्नेहा की चूत के अन्दर दिखा रहा था….

और फिर जल्दी ही मेरे मुंह को चूसते हुए हिनल ने झड़ना शुरू कर दिया…

अह्ह्ह्हह्ह्ह्ह…….आई …..एम्….कमिंग…….अह्ह्ह्हह्ह………..

मुझे उसके होंठों के नमपन से उसकी चूत से निकलते रस का पता चल गया…

उसके होंठों की मिठास को महसूस करते हुए मेरे लंड ने भी जवाब दे दिया और जल्दी ही मेरे लंड की पिचकारियाँ स्नेहा के मुंह के अन्दर जाने लगी….

अपने मुंह में मेरे रस को पाकर वो जल्दी से अपनी चूत को अंकित के हाथों पर और तेजी से रगड़ने लगी और मेरे लंड की आखिरी बूँद चूसते हुए उसकी चूत ने भी अपना प्यार बाहर की और फेंकना शुरू कर दिया…जिसे अंकित ने हाथों में समेत कर चाटना शुरू कर दिया….

स्नेहा तो निढाल सी होकर वहीँ पसर गयी…

अंकित भी अपने कपडे ठीक करता हुआ उठ खड़ा हुआ…

हिनल अभी भी ऊपर और नीचे से नंगी सी होअर मुझसे चिपकी खड़ी थी….

स्नेहा और अंकित हेरानी भरी नजरों से मुझे और हिनल को देख रहे थे…मानो कह रहे हो, भाई अब तो छोड़ दो एक दुसरे को…

सच में…ऐसा बर्थडे किसी-किसी को ही नसीब होता है..