Home / desi sex stories / मैडम के साथ फ़ोन सेक्स-eight

मैडम के साथ फ़ोन सेक्स-eight

मैंने आगे उससे पूछा

मे: अच्छा सुनो , मैं ये हिन्दी मैं वर्ड्स बोलता हूँ ., गांड , लंड तुम्हे बुरे तो नहीं लगते?

आंशिका: नो, बिल्कुल नहीं, और अगर लगते भी तो इट्स ओके , आई नो गाइस लाईक सेयिंग दीज़ वर्ड्स विद गर्ल उन्हे और मज़ा आता है, सो तुम मुझे कह सकते हो, बट मुझे कोई गंदी गाली मत देना ओके .

मे: या शुवर, थॅंक यु सो मच फ्रेंड.
आंशिका: मेन्षन नोट.

आंशिका: अछा सुनो, मैं जा रही हूँ. लंच टाइम ओवर.
मे: यार तुम हमेशा लंड खड़ा करवा के भाग जाती हो.

आंशिका: यार ग़लती मेरी नहीं तुम्हारी है, हर वक़्त खड़ा रहता है तुम्हारा.
मे: तुम हर वक़्त दिमाग़ मैं रहोगी तो खड़ा ही रहेगा.

आंशिका: सॉरी, चलो देन मेहनत करलो , बट कंट्रोल मैं, ज़्यादा नहीं.
मे: हाँ वोही करनी पड़ेगी.

अँहसिका: अछा बाय बाय नाउ. और उसे किस कर देना मेरी तरफ से.
मे: हाँ ज़रूर और तुम भी अपनी चुचियाँ और चूत को प्रेस कर देना मेरी तरफ से.

आंशिका: मौका मिलेगा तो ज़रूर करूँगी.
मे: हाँ गुड, मुआहह.

आशिका: मुआहह
फोन कट

अब सबको तो पता ही है की मेरा लंड फिर से खड़ा है अब उससे बात करके, तो मूठ ही मारूँगा. पर अब इससे हिन्दी के वर्ड्स – लंड, चूत बोलकर और बात करने मैं मज़ा आ रहा था.

उसी दिन शाम को …

हमेशा की तरह आज भी उसका 7 बजे मेसेज आया …….

आंशिका: हाय , कहाँ हो?
मे: मैं तो घर पर हूँ और तुम कॉलेज से आ गयी घर?

आंशिका: हाँ कॉलेज से तो आ गयी अभी मार्केट मैं हूँ
मे: शॉपिंग?

आंशिका: नहीं वो टेलर के पास आई थी, साडी पीको के लिए दी थी और ब्लाउस सिलवाने के लिए. कल फ्रेंड की मॅरेज मैं जाना है, तुम्हे बताया था ना?

मे: ओके , तो साडी पहनकर जाओगी. यार फिर तो बहुत सेक्सी लगोगी. तुम्हारी फ्रेंडब्राइड को छोड़कर सब तुम्हे ही देखेंगे.

आंशिका: देखने से क्या होता है, और देखेंगे तो अच्छी ही बात है, हम गर्ल्स को पसंद है वेन वी गेट अटेन्षन चाहे हमें कितनी ही शरम आ रही हो.

मे: ओहो, ऐसी बात है तो मिनि मैं चली जाओ शादी में .

आंशिका: हाँ तुम्हारा बस चले तो मुझे बस अन्डरगारमेंट में ही जाने को कह दो.

मे: हहेहेहेहहे, नहीं ऐसी कोई बात नहीं है, अन्डरगारमेंट मैं तुम सिर्फ़ मेरे सामने ही आना, किसी और के सामने नहीं.

आंशिका: हाँ हाँ क्यूँ नहीं, यार ये टेलर पका रहा है.
मे: क्यूँ क्या हुआ?

आंशिका: एक हफ़्ता पहले दिया था ये काम, अभी तक नहीं करा.
मे: क्या रह गया? ब्लाउस मैं बटन लगाना भूल गया क्या? हहेहेः

आंशिका: वेरी फन्नी, ब्लाउस टाइट सील दिया फिर से खोलकर लूस कर रहा है.
मे: यार अब वो भी क्या करे उसे क्या पता की तुम्हारी ब्रेस्ट हर थोड़े टाइम मैं बदती रहती है.

आंशिका: तुम तो चुप ही रहो, और बताओ क्या कर रहे हो.
मे: कुछ नहीं, अपनी जान से बात कर रहा हूँ. कॉल कब करोगी?

आंशिका: अभी घर तो जाने दो, तब करूँगी.
मे: यार बहुत तडपाती हो तुम.

आंशिका: मैं नहीं तडपाती , तुम ही बेचैन आत्मा हो. ज़रूर उसे खड़ा कर रखा होगा इस वक़्त भी.
मे: वो तो हमेशा ही होता है.

आंशिका: दिन मैं कितनी बार मास्तेर्बेत कर लेते हो?
मे: डिपेंड्स तुमसे कितनी बार बात होती है.

आंशिका: यु आर टोटली मेड , सुधर जाओ.
मे: तुम ही सुधार सकती हो बस.

आंशिका: हाँ डोंट वरी, एक बार मैं ही सुधार दूँगी.
मे: पर कब, आई एम् डाईंग

आंशिका: तो मर जाओ फिर, इतनी बार बोल चुकी हूँ बी पेशेंट बी पेशेंट और तुम हो की बस
मे: अरे सॉरी ना बाबा, मेरी . . . ..

आंशिका: . तो . . हो जैसे सोर्फ तुम्हारा ही मन करता है, मेरा तो मन ही नहीं है.
मे: मैने ऐसे कब कहा, बस मेरा मन बहुत ज़्यादा है.

आंशिका: पूरे हॉर्नी हो तुम, ठरकीईईई विशाल
मे: और तुम भी कम ठरकी नहीं हो. तुम कितनी बार फिंगरिंग करती हो?

अँहसिका: मैं तुम्हारी तरह पागल नहीं हूँ, मैं वीक मैं 2 या three बार बस.
मे: ये भी कुछ कम नहीं है, ठरकी अन्नू.

आंशिका: हाँ हू तो, तुम्हे क्या उससे.
मे: हाँ तो बस ऐसे ही मैं हूँ.

आंशिका: मैं घर पहुँचकर तुमसे बात करती हूँ, बाइ
मे: ओक बाइ. अछा सुनो ब्लाउस को तोड़ा टाइट ही रहने देना, क्लीवेज तो दिखे ढंग से कम से कम.

आंशिका: आई नो, इतना फॅशन तो आता ही है मुझे, पर टेलर ने इतना टाइट कर दिया था की साँस भी नहीं ली जा रही थी इसमें से , तभी तोड़ा सा लूस करवाया है. और कोई सजेशन भी है तो वो भी बोल दो.

मे: साडी किस कलर की पहन के जा रही हो?

आंशिका: पिंक विद मॅचिंग बॅंगल्स, बिंदी एंड ए सिल्वर चैन, लाइट वन. आंड या मॅचिंग सेंडलस टू.

मे: तुम्हारे ना इरादे मुझे अच्छे नहीं लग रहे, पता नहीं कहीं वहीं तुम्हे कोई पसंद ना कर ले, मेरा क्या होगा फिर.

आंशिका: डोंट वरी, कोई नहीं करेगा और अगर किसी ने कर भी लिया तो आई विल आस्क हिम टू वेट जब तक तुम्हे खुश नहीं कर देती एक बार.

मे: बस एक बार ही?

आंशिका: बार बार, ओक?

मे: हाँ कई बार.

आंशिका: अब जाओ मुझे क्लोथ्स भी ट्राइ करने है, बाइ.
मे: बाइ.

देन उसने रात को 9:30 पर कॉल करा………….

आंशिका: हाय ..
मे: हाय , सील गया ब्लाउस सही?

आंशिका: हाँ सील ही गया अट्लस्ट, साले ने एक दिन पहले दिया है शादी से.
मे: दे तो दिया ना, तो बस छोड़ो.

आंशिका: हाँ ये भी है, और बताओ, क्या कर रहे हो? खाना खा लिया या नहीं?
मे: हाँ खाना वाना 9 बजे से पहले ही खा लेता हूँ,

आंशिका: क्यूँ?
मे: क्यूंकी यु ऑल्वेज़ कॉल अराउंड 9 एंड आफ्टर 9, सो बिना डिस्टर्ब हुए तुमसे बात करने के लिए.

आंशिका: ओहो, सो स्वीट ऑफ यु , इतनी पसंद हूँ मैं.
मे: अब देख लो. अपने रूम मैं हो ?

आंशिका: हाँ वो जो क्लोद्स लाई हूँ वो ट्राइ कर रही हूँ.

मे: वाउ, काश मैं भी वहीं होता. सो कैसी लग रही है मेरी जान, पिंक साडी मैं.?

आंशिका: अब अपनी तारीफ़ कैसे करूँ. सही लग रही हूँ.

मे: यार तुम पागल हो, एकद्ूम माल लग रही होगी तुम आई नो.

आंशिका: पर ये ब्लाउस अभी भी थोडा टाइट है यार.

मे: तो क्या हुआ, तुम कोई forty forty five साल की औरत तो हो नहीं जो ढीले ब्लाउस पहनोगी, तुम्हारे बूब्स भी ढीले नहीं है, एकद्ूम टाइट है, तो टाइट ब्लोसे ही अछा लगेगा.

आंशिका: आई नो, बट फिर भी यार टाइट है, . . . . . . . ..
मैं : तो तुम्हे उपर हाथ क्यूँ उठाना है? अछा एक काम कारू ब्रा उतरो और फिर ब्लाउस पहनो.

आंशिका: ओक, रूको ट्राइ करती हूँ.
मे: ओक.

5 मीं बाद

आंशिका: हाँ पहन लिया ब्लाउस विदाउट ब्रा.

मे: अब भी टाइट है?

आंशिका: थोड़ी कम हुई टाइटनेस.
मे:देन ऐसे ही जाना शादी मैं.

आंशिका: तुम पागल हो या, मेरे निपल्स सॉफ दिख रहे हैं, और अगर ग़लती से कुछ भी गीला गिर गया ना मेरे ब्लाउस पर तो पूरी ब्रेस्ट क्लियर दिखेगीं, ये ब्लाउस स्ट्रेच्ड है, कसे होने की वजह से.
मे: यार तुम पूरी इस वक़्त सेक्स गॉडेस लग रही होगी, आई एम् शुवर.

आंशिका: हहहे, साले कामदेव चुप रह.
मे: अछा अब एक काम और करो, पेंटी और पेटिकोट भी निकल दो और सिर्फ़ साडी पहने रहो.

आंशिका: बाद मैं ये मत बोल्*िओ की ऐसे ही जाना शादी मैं.
मैं : अरे पहले जो कहा है वो करो.

आंशिका; ओक वेट… करती हूँ..

थोड़ी देर बाद वो बोली,

आंशिका: ओये, यार नीचे ठंड लग रही है, लॉल, ऐसा लग रहा है कुछ भी नहीं पहना है. फीलिंग आई एम् नेक्ड ईवन आफ्टर वेरिंग दिस साडी

मे: यही तो फ्रीडम का मज़ा है डियर. तुम्हारे पल्लू से दोनो बूब्स कवर हो गये?

अंहिस्का: तुम्हे लगता है की हो गये होंगे?
मे: आई एम् शुवर की पूरे नहीं हुए होंगे कवर, कितने हुए हैं बताओ.

आंशिका: लेफ्ट वाली तो ऑलमोस्ट कवर हो गयी है, रायट वाली काफ़ी एक्सपोज़्ड है, बस दोनो के निपल्स ही कवर्ड हुए हैं ढंग से.

मे: यार तुम मुझे ये सब सुना सुना कर ही मार डालगी. रूको मैं लंड बाहर निकल लूँ.

आंशिका: बाबा, कितना खड़ा होता है वो
मे: कौन वो ?

आंशिका: तुम्हारा पेनिस और कौन.
मे: हिन्दी मैं बोलो.

आंशिका: चुप रहो, मैं नहीं बोलूँगी तुम बोल लो तुम्हे कोई मना नहीं है, पर मैं नहीं बोलूँगी, आई फील शाइ.

मे: अभी भी शरमाती हो मुझसे क्या यार, फील फ्री. अगर तुम मेरी वर्जिनिटी लेना चाहती हो तो डोंट फील शाइ. बोलो अब
हिन्दी मैं और सिर्फ़ हिन्दी मैं ही बोलना अब से.

अँहसिका: तुम ब्लॅकमेल अछा कर लेते हो, लो सुनो, तुम्हारा लंड हुमेशा खड़ा रहता है.

ये सुनकर तो बस मज़ा ही आगेया
मे: तुम्हारी चूत भी तो हमेशा गीली रहती है.

अँहसिका: अछा तुम्हे कैसे पता?

मे: आई केन स्मेल दी फ्रेग्रेन्स यहाँ से भी.

आंशिका: केसी लगी मेरी चूत की स्मेल

मे: बहुत अच्छी , सीम्स यु आर रेडी टू गेट फक्ड. नंगी हो जा जल्दी से और शीशे के सामने बैठ जा.

आंशिका: ओक
मे: बैठ गयी मिरर के सामने?

आंशिका: हाँ.
मे: किस पर बैठी हो?

आंशिका: चेयर पर.

मे: गुड, अब थोड़ी सी आगे हो जाओ और अपनी लेग्स थोड़ी स्प्रेड करके थोड़ी उठा लो अपने कंधों की तरफ जिससे तुम्हारी चूत सॉफ दिखे मिरर मैं.

आंशिका: क्या करवाना चाहते हो?

मे: तुम करो तो सही

आंशिका: हाँ कर लिया, अब बोलो
मे: अब अपना एक हाथ अपनी झांटो मैं फिराओ और बताओ कैसा लग रहा है.

आंशिका: म्*म्म्मम, मज़ा आ रहा है. मेरी चूत गीली हो गयी है पूरी अब.

मे: गुड, अपनी झाटों को हल्के हल्के खीँचों भी.

आंशिका: तुमने कभी सेक्स तो करा नहीं, फिर तुम ये सब कैसे करते हो?

मे: बस ये मेरे डिज़ाइर्स हैं जो तुम्हारी साथ पूरे करूँगा.

अंहिस्का: आई एम् शुवर तुम्हारे साथ सेक्स करके मुझे बहुत मज़ा आने वाला है, तुम फोन पर ही ये हालत कर देते हो.
मे: देखा हो गयी ना मेरी दीवानी, अछा अभी ये बातें छोड़ो अपनी झांतों को सहलाओ

आंशिका: कर रही हूँ जान बस तुम बोलते रहो, आह
मे: अपनी चूत की लाइन पर फिंगर को लाओ और अंदर मत डालना फिंगर.

आंशिका: आहह, जैसा तुम कहो, अब?
मे: अपनी फिंगर को चूत की लाइन पर उपर से नीचे घूमाओ, फिर अपनी पाँचों फिंगर्स को चूत के फेस पर रखो और उसे धीरे धीरे प्रेस करो.

आंशिका: आ, बहुत मज़ा आ रहा है, फर्स्ट टाइम फिंगरिंग मैं इतना माज़ा आ रहा है.
मे: करती रहो बस,

आंशिका: म्*म्म्मममम, सीईइ, आग लगी हुई चूत मैं, पता नहीं कब बुझ पाएगी, तुम्हारे लंड के भी ऐसे हाल होंगे.
मे: हाँ तड़प्ता रहता है वो भी, अछा अब अपने हाथ को चूत के फेस पर ही रहने दो और धीरे से अपनी रिंग फिंगर को छूट के अंदर डालो.

आंशिका: मिड्ल फिंगर नहीं?
मे: जो कहा है वो करो, कुछ पूछो मत वरना लंड बैठ जाएगा.

आंशिका: सॉरी सॉरी, कर रही हूँ अन्दर , मेरी पूरी चूत गीली है आज बुरी तरह, तुम्हारी वजह से.
मे: गुड, मैं तुम्हारी चूत को को कभी सूखने नहीं दूँगा. अब अपनी रिंग फिंगर को चूत के अंदर बाहर करते हुए अपने थंब को झाटों मैं फिराओ और वहाँ प्रेस करो आराम से.

आंशिका: विशाल, आई एम् कमिंग, तुम मुझे पागल कर रहे हो, इट्स बर्निंग डाउन देयर . अहहह्ह्ह्हह्ह

मे: अपनी मिड्ल फिंगर भी अब चूत मैं डालो और धीरे धीर अंदर बाहर करो और फिर स्पीड से करना.

आंशिका ने शायद फोन साइड मैं रख दिया था क्यूंकी उसकी आवाज़ अब कम आ रही थी

आंशिका: आह, इट्स सो हॉट, अहहह्ह्ह्हह्ह अह्ह्ह्हह्ह्ह्ह उफ्फ्फ्फ़ मम्म

मे: क्या हुआ झड़ गयी मेरी जान?

वो 5 मीं तक चुप रही.

आंशिका: हाफ्ते हुए मज़ा आ गया यार, कहाँ से सीखा तुमने ये सब.?
मे: बस कुछ मेरे दिमाग़ की उपज और कुछ ब्लू फिल्म्स से.

अँहसिका: तुम कमाल हो यार, इतना मज़ा कभी नहीं आया. थेंक यु सो मच. तुम झड़ गये क्या?
मे: हाँ मैं पहले ही झड़ गया था, जब तुम कपड़े ट्राइ कर रही थी.

.: ओक
मे: यार तुम्हारी चूत लेने का बहुत मन कर रहा है अभी, अभी मिल सकते हैं क्या हम?

आंशिका: नो यार, इट्स 10:30 नोट पासिबल, मैं ना ही बाहर जा सकती हूँ और ना ही तुम्हे यहाँ बुला सकती हूँ
मे: यार मेरी हालत खराब हो चुकी है तुम्हे सपनों मैं चोद चोद कर.

अंशिका : ओह विशाल, आई नो, बट हम क्या कर सकते हैं तुम्ही बताओ.
मे: या आई नो, हे क्या हम कल मिल सकते हैं?

आंशिका: कल कैसे मिलोगे? दिन मैं four बजे तक कॉलेज मैं होंगी, देन वहाँ से जल्दी आकर, पार्लर जाना है और फिर तय्यार होकर शादी मैं जाना है. नोट पासिबल.
मे: शादी मैं किसके साथ जा रही हो?

आंशिका: ऑफीस कोलीग, उसकी कार मैं, बताया था ना वो एक मेरी सीनियर है वो भी आएँगी शादी मैं, तो वोही मुझे पिक उप करेंगी और ड्रॉप भी अपनी कार से.
मे: यार जाने का तो सही है, बट क्या तुम आते वक़्त मेरे साथ नहीं आ सकती?

आंशिका: अगर मैं आ भी जाऊ तुम्हारे साथ, पर तुम्हे कल चूत नहीं दे सकती, क्यूंकी रात को ऑलरेडी इतनी लेट हो जाएगा और फिर तुम्हारे साथ कही और नहीं जा सकती ..घर वाले गुस्सा होंगे यार, और सॉरी मैं किसी होटेल मैं नहीं जाउंगी . हूमें टाइम और प्लेस देख कर करना होगा यार.

मे: आई नो की बहुत लेट हो जाएगा, चूत मत देना कल पर मिल तो सकते हैं,आई मीन तुम्हे ड्रॉप करने के बहाने तो मैं आ ही सकत हूँ , अपनी कोलीग से कोई झूठ बोल देना की कोई आया है मेरे घर से मुझे लेने सो उसके साथ जा रही हूँ. इस बहाने थोड़ी देर के लिए मिल लेंगे.

आंशिका: ठीक है मैं उसे बोल दूँगी पर एक शर्त पर आउंगी .
मे: क्या?

आंशिका: तुम कल कोई ऐसी वैसी ज़िद नहीं करोगे और ना ही मेरे साथ सेक्स करने के लिए ज़िद करोगे कहीं पर भी.
मे: किस भी नहीं दोगी और तुम्हारे बूब्स भी प्रेस नहीं कर सकता?

आंशिका; नहीं वो कर सकते हो. पर करोगे कहाँ? कोई होटेल मैं मत लेकर जाना, मेर्को नहीं पसंद, मैं नहीं जाउंगी .
मे: अरे नहीं लेकर जाऊंगा बाबा, बट कोई ना कोई रास्ता दूंढ लूँगा तुम्हारे साथ फोरप्ले का, यु डोंट वरी.

आंशिका: अब मैं तुम्हारे उपर ट्रस्ट करके अपनी कुलीग से बोल दूँगी की यु विल मी , ओके ?
मे: हाँ, थॅंक यु , वेरी गुड. शादी मैं कब तक होंगी तुम?

आंशिका: 10 या 10:30 तो बज ही जाएँगे, हम घर से eight बजे निकलेंगे.
मे: ओक. तुम मुझे वेन्यू मेसेज कर देना, मैं आ जाऊँगा .

आंशिका: अछा सुनो, वहाँ मेरे कॉलेज से कुछ और भी कुलीग होंगे तो ध्यान से हाँ , आई मीन किसी को कुछ पता न चल पाए .

मे: यु डोंट वरी, कोई मुझे नहीं जानता, तो तुम कुछ भी झूठ बोल सकती हो उन्हे.

आंशिका: ठीक है डन देन. और प्रॉमिस मत तोड़ना मेरा ओके , वरना मुझे बुरा लगेगा बहुत.
मे: ओक शुवर.

आंशिका: अब मैं सो जाऊं ? नींद आ रही है मुझे, आज बहुत मज़ा आया फिंगरिंग करके, तुम्हारी वजह से.
मे: सोच लो अब जब मेरे से चुदोगी तो क्या हालत होगी.

आंशिका: अब कुछ मत बोलो वरना सोच कर फिर गीली हो जाएगी मेरी चूत और फिर फिंगरिंग करनी पड़ेगी.
मे: तो कर लो फिर से, मैं फिर हेल्प कर दूँगा.

आंशिका: नहीं अब सोना है , बहुत हो गया आज के लिए. अब नहीं और.
मे: ओके , सो जाओ फिर और हाँ कल का प्रोग्राम फाइनल है चेंज मत करना, ओक

आंशिका: ओके , नहीं करूँगी और तुम अपना प्रॉमिस भी याद रखना.
मे: ओक, चलो मैं एक बार और मूठ मरता हूँ तुम्हारे बारे मैं सोच कर और तुम जाओ अब सो जाओ.

आंशिका; मत मारा करो इतना मूठ, मेरे लिए भी कुछ छोड़ दो.
मे: तुम चिंता मत आक्रो, तुम्हारे लिए स्टॉक बहुत है.

आंशिका: हहेहहे, चलो गुड नाइट टेक केयर .
मे गिव मी किस.

आंशिका: मुआहहह्ह्ह्ह तुम्हारे लिप्स पर एंड मुआहह तुम्हारे लंड पर
मे: मुआहह तुम्हारी पूरी बॉडी पर, मुह्ह्ह्ह तुम्हारे एक एक कर्व पर.

आंशिका : गुड नाइट जान
मे: गुड नाइट. अछा सुनो अगर फिर फिंगरिंग का मन कर आए सोते हुए तो मुझे कॉल कर लेना.

आंशिका: चुप रहो अब, सोने दो. बाइ

नेक्स्ट डे सुबह 10 बजे मैने उसे मेसेज करा ………

मे: हाय , गुड मॉर्निंग मेम , कैसी हो?
आनेहका: हाय , गुड मॉर्निंग, मेम मत बोला करो. अच्छी हूँ कॉलेज मैं हूँ, तुम बताओ.

मे: नहीं मेम बोल कर लंड और टाइट होता है सो बोलूँगा. मैं भी अछा हूँ, अभी सो कर उठा, बस रत को मिलने के सपने देख रहा हूँ की क्या क्या होगा.

आंशिका: ज़्यादा सपने मत देखा करो, ज़्यादा कुछ नहीं होगा, ना ही मैं होने दूँगी.

मे: आई नो यार, अछा कॉलेज से घर कब जाओगी?
आंशिका: three बजे निकल जाउंगी , देन अपनी सीनियर के साथ पार्लर होते हुए घर जाउंगी , देन वो शाम को 7 बजे आएगी मुझे पिक करने अपनी कार मैं.

मे: ओक और मैं अपनी जान से कब मिल पाउँगा ?
आंशिका: आफ्टर 10:30, इतना टाइम तो लग जाएगा. तुम घर पर बोल कर क्या आओगे?

मे: मेरे फ्रेंड का बर्थडे है, तो उसी के यहाँ जा रहा हूँ. हहहे. कैसा है झूठ?
आंशिका: ऐसे कितने फ्रेंड के फेक बर्थडे मनाओगे .

मे: अभी एक का तो सेलेब्रेट करने दो, बाकिओं का भी देख लेंगे, वैसे तुमने अभी से आगे की सोच रखी है, चूत गीली है क्या?
आंशिका: चुप बदमाश, मैं तुम्हारी तरह पागल नहीं , जो हर वक़्त सेक्स के बारे में सोचूँ.

मे: अछा तो अभी किस बारे मैं सोच रही हो? सच सच बताना.
आंशिका: अब तुम्हारे साथ तो सेक्स के बारे मैं ही सोचूँगी.

मे: तो हर वक़्त मेरे से बात करा करो, सिर्फ़ सेक्स के बारे मैं ही सोचोगी.
आंशिका: नहीं सोचना जा, तुम्हारा तो इस वक़्त भी खड़ा होगा, ज़रूर मेहनत करने की सोच रहे होंगे.

मे: नहीं यार आज बिल्कुल नहीं छुउंगा लंड को, सिर्फ़ तुम चुवोगी इसे.
आंशिका: मैने तुमसे पहले भी कहा था की मैं आज सेक्स नहीं कर सकती फिर तुम ये बोल रहे हो.

मे: अरे उसे छूने से तुम्हारी चूत मैं थोड़ी ना चला जाएगा? बस छू लेना.
आंशिका: पता नहीं अभी कुछ, देखेंगे, और अगर तुमने कोई ऐसी वैसी बात करनी है तो बता दो मैं अभी प्रोग्राम केंसल कर दूँगी.

मे: अरे यार नहीं करनी ऐसी वैसी बात तुम्हारी पर्मिशन के बिना मेम .
आंशिका: डेट्स लाईक माय ओबीडियेंट स्टूडेंट.

मे: अछा पहेंके क्या जाओगी वहाँ?
आंशिका: कल बताया तो था, पिंक सारी वित मॅचिंग सॅंडल्ज़, पिंक बिंदी, और सिल्वर चैन

मे: अरे ये तो मुझे पता है, ई आम आस्किंग अबौट इन्नर गारमेंट्स.
आंशिका: इन्नर गारमेंट्स जो पहेनटी हुनवोी तो पहनुँगी, कोई सुहग्रात थोड़ी ना है मेरी की कुछ अलग पहनूं. सेम ओल्ड पनटी आंड ब्रा.

मे: किस टाइप की ब्रा?
आंशिका: बड़ा इंटेरेस्ट ले रहे हो मेरी ब्रा मैं.

मे: तो क्यूँ ना लूँ, जिस चीज़ से तुम्हारे 32ड्ड बचे हुए हैं उसके बारे मैं जानकारी तो हो.
आंशिका: लॉल, वेल क्लोथ वाली ब्रा पहनुँगी, वो अच्छी लगती है ब्लाउस के नीचे,आयी मीन सही रहती है और वैसे भी ब्लाउस टाइट है.

मे: यार एक नेट वाली ब्रा भी तो होती है, जिस में पूरी ब्रेस्ट दिखती है.
आंशिका: बड़ी नालेज रखते हो. हाँ वो भी है मेर पास नेट वाली ब्रा.

मे: यार वोही पहनो ना फिर प्लीज़, मुझे देखनी है कैसी लगती है तुम्हारी ब्रेस्ट पर.
आंशिका: ओक जी, जैसा तुम कहो

मे: थॅंक्स.
आंशिका: कोई ज़रूरत नहीं थॅंक्स की.

मे: अभी क्या कर रही हो.
अंशिका : वोही स्टूडेंट्स को वॉच कर रही हूँ. वो प्रॅक्टीस कर रहे हैं.

मे: मेल स्टूडेंट्स को देख रही हो या फीमेल स्टूडेंट्स को?
आंशिका: दोनो को, मेल को थोडा ज़्यादा हहहे.

मे: बस देखना की किसी को अपना साइज़ मत बता देना, वर्ना में बुरा मान जाऊंगा .
आंशिका: आई नो, आई प्रोमिसे जब तक तुम्हे खुश नहीं कर देती तब तक नो टू अदर्स, और तुम भी ज़रा कंट्रोल करके, किसी और पारूल से मत मिलना.

मे: अरे वो तो मेरी फ्रेंड थी यार डेट्स इट.
आंशिका: मुझे क्या पता. मन तो होगा ही तुम्हरा उसकी ब्रेस्ट सक करने का और सब कुछ करने का.

मे: यार अब किसका नहीं होता मन, बस मन ही था कुछ करा नहीं.
आंशिका: या आई नो, अछा है, और कुछ करना भी नहीं. अछा बाद मैं बात करती हूँ, क्लास टाइम. बाइ, टेक केयर .

मे: ओक, बाइ, टेक केयर . और हाँ रात को 10:30 बजे का पक्का है.
आंशिका: हाँ बाबा, अब जाओ, पढ़ने दो मुझे.